बच्चे व उनके परिजन ऑनलाईन दर्ज करा सकेंगे शिकायत

प्रशासन

स्कूलों तथा थानों में क्यू आर कोड चस्पा होंगे

बाल हक ई- बॉक्स किए जाएंगे स्थापित

नागौर // ऐसे बच्चे जो मुसीबत में फंसे हो अथवा जिनके विरूद्ध कोई अपराध कारित किया गया है उनकी सहायता के लिए बाल अधिकारिता विभाग द्वारा नवाचार के रूप में बाल हक ई-बॉक्स स्थापित किए जा रहे है। जिला बाल अधिकारिता एवं बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक सुरेंद्र कुमार पुनिया ने बताया कि 18 वर्ष से कम आयु के संकटग्रस्त बालक-बालिकाओं की सहायता के लिए बाल अधिकारिता विभाग द्वारा “बाल हक ई-बॉक्स” पहल का आरम्भ किया गया है। बाल हक ई-बॉक्स के माध्यम से कोई भी बच्चा अथवा व्यक्ति अपनी शिकायत ई-मेल baalhaq@rajasthan.gov.in पर विभाग को प्रेषित कर सकता है।
सहायक निदेशक ने बताया कि ‘बाल हक ई-बॉक्स एक तरह का क्यूआर कोड है, बालक और परिजन शिकायत करने के लिए जैसे ही कोड स्कैन करेंगे तो एक गूगल फॉर्म खुलेगा, जिसमें बालक का नाम, पता, उम्र, सम्पर्क सूत्र और बालक के साथ हुए अपराध के प्रकार के आधार पर जानकारी भरनी होगी। उन्होंने बताया कि यह जानकारी सीधे जयपुर पहुंचेगी और वहां से सम्बन्धित जिले को यह शिकायत भेजी जाएगी। जिस पर विभाग द्वारा पुलिस, जिला बाल संरक्षण इकाई एवं चाईल्ड लाईन 1098 के माध्यम से समुचित कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। सहायक निदेशक पूनिया ने बताया कि शिकायत पूरी तरह गोपनीय रहेगी। इसमें शारीरिक उत्पीड़न, मारपीट, बाल यौन दुर्व्यवहार, उपेक्षा-भेदभाव, नशीली दवाओं व पदार्थों का विक्रय, बाल विवाह और बाल श्रम की शिकायत की जा सकेगी।